Dakshineswar Kali Temple, Kolkata

Private Tour: Places of Worship in Kolkata including Mother House
FromUSD 100 Book Now

Dakshineswar Kali Temple, Kolkata - Address, Phone Number

Address: May Dibas Pally, Dakshineswar, Kolkata, West Bengal 700076

Phone: +91-3325645222

Show on map

Time Required: 02:00 Hrs

Timings: 05:00 am - 08:00 pm Details

Added 13.2K times in trip plans

Religious Site, Temple, Family And Kids

Try TripHobo to create your itinerary

Are you associated with this business? Get in touch

About Dakshineswar Kali Temple, Kolkata

Part of the reason why Dakshineswar is so popular amongst the holy-minded is that Ramakrishna started his journey from this place. The minute you step foot inside the temple, you can feel the aura of thousands of prayers and piousness of the energies surrounding this spiritual site. Just for it’s immense positivity and meditative reverence, this temple should be on your ‘to-do’ list while in Kolkata.

A well known temple in India, the place sees hordes of pilgrims and visitors everyday. Since it is a temple, it does not have any Dakshineshwar Kali Temple Tickets specifically. Hence, there is no need to stand in the long queue to Buy Tickets for Dakshineshwar Kali Temple or worry about Dakshineshwar Kali Temple Ticket Prices. If you wish to contribute, you can donate some money which will be used for temple’s welfare.

Dakshineswar Kali Temple Information

  • Conservative dressing is encouraged.
  • Do remember to take your shoes off before you enter the temple.

How To reach Dakshineswar Kali Temple by Public Transport

  • Bus no AC, C, E, S, Esplanade terminal to bus stop Dakshineshwar temple.

Restaurants Near Dakshineswar Kali Temple

  • Amar Restaurant
  • Biryani House
  • MaaBhabatarini restaurant

Love this? Explore the entire list of things to do in Kolkata before you plan your trip.

Fancy a good night's sleep after a tiring day? Check out where to stay in Kolkata and book an accommodation of your choice.

Dakshineswar Kali Temple, Kolkata Reviews - Write a Review

user-pics
Google+
  • कोलकाता के उत्तर में विवेकानंद पुल के पास दक्षिणेश्वर काली मंदिर स्थित है। यह मंदिर बीबीडी बाग से 20 किलोमीटर दूर है। दक्षिणेश्वर मंदिर का निर्माण सन 1847 में प्रारम्भ हुआ था। जान बाजार की महारानी रासमणि ने स्वप्न देखा था, जिसके अनुसार माँ काली ने उन्हें निर्देश दिया कि मंदिर का निर्माण किया जाए। इस भव्य मंदिर में माँ की मूर्ति श्रद्धापूर्वक स्थापित की गई। सन 1855 में मंदिर का निर्माण पूरा हुआ। यह मंदिर 25 एकड़ क्षेत्र में स्थित है। दक्षिणेश्वर मंदिर देवी माँ काली के लिए ही बनाया गया है। दक्षिणेश्वर माँ काली का मुख्य मंदिर है। भीतरी भाग में चाँदीसे बनाए गए कमल के फूल जिसकी हजार पंखुड़ियाँ हैं, पर माँ काली शस्त्रों सहित भगवान शिव के ऊपर खड़ी हुई हैं। काली माँ का मंदिर नवरत्न की तरह निर्मित है और यह 46 फुट चौड़ा तथा 100 फुट ऊँचा है। विशेषण आकर्षण यह है कि इस मंदिर के पास पवित्र गंगा नदी जो कि बंगाल में हुगली नदी के नाम से जानी जाती है, बहती है। इस मंदिर में 12 गुंबद हैं। यह मंदिर हरे-भरे, मैदान पर स्थित है। इस विशाल मंदिर के चारों ओर भगवान शिव के बारह मंदिर स्थापित किए गए हैं। प्रसिद्ध विचारक रामकृष्ण परमहंस ने माँ काली के मंदिर में देवी की आध्यात्मिक दृष्टि प्राप्त की थी तथा उन्होंने इसी स्थल पर बैठ कर धर्म-एकता के लिए प्रवचन दिए थे। रामकृष्ण इस मंदिर के पुजारी थे तथा मंदिर में ही रहते थे। उनके कक्ष के द्वार हमेशा दर्शनार्थियों के लिए खुला रहते थे। माँ काली का मंदिर विशाल इमारत के रूप में चबूतरे पर स्थित है। इसमें सीढि़यों के माध्यम से प्रवेश कर सकते हैं। दक्षिण की ओर स्थित यह मंदिर तीन मंजिला है। ऊपर की दो मंजिलों पर नौ गुंबद समान रूप से फैले हुए हैं। गुंबदों की छत पर सुन्दर आकृतियाँ बनाई गई हैं। मंदिर के भीतरी स्थल पर दक्षिणा माँ काली, भगवान शिव पर खड़ी हुई हैं। देवी की प्रतिमा जिस स्थान पर रखी गई है उसी पवित्र स्थल के आसपास भक्त बैठे रहते हैं तथा आराधना करते हैं। इस मंदिर के सामने नट मंदिर स्थित है। मुख्य मंदिर के पास अन्य तीर्थ स्थलों के दर्शन के लिए भक्तजन की भीड़ लगी रहती है। दक्षिणेश्वर माँ काली का मंदिर विश्व में सबसे प्रसिद्ध है। भारत के सांस्कृतिक धार्मिक तीर्थ स्थलों में माँ काली का मंदिर सबसे प्राचीन माना जाता है। दक्षिणेश्वर माँ काली का मंदिर विश्व में सबसे प्रसिद्ध है। भारत के सांस्कृतिक धार्मिक तीर्थ स्थलों में माँ काली का मंदिर सबसे प्राचीन माना जाता है। मंदिर की उत्तर दिशा में राधाकृष्ण का दालान स्थित है। पश्चिम दिशा की ओर बारह शिव मंदिर बंगाल के अटचाला रूप में हैं। चाँदनी स्नान घाट के चारों तरफ शिव के मंदिर हैं। छ: मंदिर घाट के दोनों ओर स्थित हैं। मंदिर की तीनों दिशाएँ उत्तर, पूर्व, पश्चिम में अतिथि कक्ष तथा ऑफिस स्थित हैं। पर्यटक साल में हर समय यहाँ पर भ्रमण करने आ सकते हैं। वायुमार्ग कोलकाता वायुसेवा के माध्यम से बंगलोर, मुंबई, दिल्ली, चेन्नई सहित सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। रेलमार्ग कोलकाता में मुख्य तौर पर दो स्टेशन हैं- शियालदाह तथा हावड़ा। कोलकाता रेलमार्ग के माध्यम से भी सभी प्रमुख बड़े शहरों से जुड़ा हुआ है। सड़क हर प्रमुख शहरों से कोलकाता जाया जा सकता है। स्थानीय साधन लकाता में मीटर से टैक्सी चलती है। बस, मेट्रो रेल, साइकल रिक्शा तथा ऑटो रिक्शा चलते हैं। मंदिर के खुलने का समयप्रातःकाल 5.30 से 10.30 तक। संध्याकाल 4.30 से 7.30 तक।

    Read more
  • Piousness and wary calm greets everyone in this god's abode. Order and cleanliness amazes oneself. The only thing one needs to be prepared for is walking and since metro construction is going on around so have to walk to get a cab.

  • Love this place. One of the most significant temples of West Bengal. There is a nearby rail station, bus stop. Car parking is also available. Beautiful scenery beside the Ganges

  • Very pleasant atmosphere... beautiful temple on the banks of river Ganges.. The temple looks same from all the four sides.. great piece of architecture.

  • Beautiful historic Hindu temple at the Ganga ghat. Very nice architectural details on the temple building. Can spend 3-4 hrs in a cool day. Lot of people rush to the ghat for religious belief of taking a bath on the Ganga banks.

Read all reviews
0