Mangalnath Mandir

Currently Open [Closes at 08:00 pm]
  • Address: Bhairavgadh Road, Ujjain, Madhya Pradesh 456006, India
  • Timings: 04:00 am - 08:00 pm Details
  • Phone: +91-7342584208
  • Ticket Price: Free
  • Time Required: 01:00 Hrs
  • Tags: Religious Site, Temple, Family And Kids

Mangalnath Mandir - Review

Mangal is the Hindu term for planet Mars. The Mangalnath temple is dedicated to the same planet whose manifestation comes across in the form of Lord Shiva. This temple exudes great spiritual energy and is located on the picturesque banks of Shipra River. The temple is situated at the place where the first meridian is said to pass the earth. Infact, it is considered that from a specific point of this temple, a person can have a clear view of the Mars planet as well.

Mangalnath Mandir Information

  • Follow the Hindu rituals while entering the temple.

Mangalnath Mandir Ticket Prices

  • Entry is free.

How To reach Mangalnath Mandir by Public Transport

  • By Bus Station: Ujjain Bus stand

Love this? Explore the entire list of things to do in Ujjain before you plan your trip.

Fancy a good night's sleep after a tiring day? Check out where to stay in Ujjain and book an accommodation of your choice.

TripHobo Highlights for Mangalnath Mandir

  • Mangalnath Mandir Address: Bhairavgadh Road, Ujjain, Madhya Pradesh 456006, India
  • Mangalnath Mandir Contact Number: +91-7342584208
  • Mangalnath Mandir Timing: 04:00 am - 08:00 pm
  • Mangalnath Mandir Price: Free
  • Best time to visit Mangalnath Mandir(preferred time): 06:00 am - 07:00 pm
  • Time required to visit Mangalnath Mandir: 01:00 Hrs
  • Try the best online travel planner to plan your travel itinerary!
  • Plan a Trip to Mangalnath Mandir using our free Ujjain Trip Planner
  • Explore Ujjain itineraries created by fellow travellers
Are you associated with this business? Get in Touch

Things to Know Before Visiting Mangalnath Mandir

  • 95% of people who visit Ujjain include Mangalnath Mandir in their plan

  • 53.98% of people start their Mangalnath Mandir visit around 11 AM - 12 PM

  • People usually take around 1 Hr to see Mangalnath Mandir

Thursday, Saturday and Sunday

95% of people prefer to travel by car while visiting Mangalnath Mandir

People normally club together Raja Bharthari Cave and Bade Ganeshji Ka Mandir while planning their visit to Mangalnath Mandir.

* The facts given above are based on traveler data on TripHobo and might vary from the actual figures

Mangalnath Mandir Map

Enable Map

Mangalnath Mandir Trips

Mangalnath Mandir, Ujjain Reviews

Google+
  • उज्जैन को पुराणों में मंगल की जननी कहा जाता है. ऐसे व्यक्ति जिनकी कुंडली में मंगल भारी रहता है, वे अपने अनिष्ट ग्रहों की शांति के लिए मंगलनाथ मंदिर में पूजा-पाठ करवाने आते हैं. मंगल दोष एक ऐसी स्थिति है, जो जिस किसी जातक की कुंडली में बन जाये तो उसे बड़ी ही अजीबोगरीब परिस्थिति का सामना करना पड़ता है, मंगल दोष कुंडली के किसी भी घर में स्थित अशुभ मंगल के द्वारा बनाए जाने वाले दोष को कहते हैं, जो कुंडली में अपनी स्थिति और बल के चलते जातक के जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में समस्याएं उत्पन्न कर सकता है. मंगल दोष पूरी तरह से ग्रहों की स्थति पर आधारित है. वैदिक ज्योतिष के अनुसार यदि किसी जातक के जन्म चक्र के पहले, चौथे, सातवें, आठवें और बारहवें घर में मंगल हो तो ऐसी स्थिति में पैदा हुआ जातक मांगलिक कहा जाता है. यह स्थिति विवाह के लिए अत्यंत अशुभ मानी जाती है. संबंधो में तनाव व बिखराव, घर में कोई अनहोनी व अप्रिय घटना, कार्य में बेवजह बाधा और असुविधा तथा किसी भी प्रकार की क्षति और दंपत्ति की असामायिक मृत्यु का कारण मांगलिक दोष को माना जाता है. ज्योतिष शास्त्र की दृष्टि में एक मांगलिक को दूसरे मांगलिक से ही विवाह करना चाहिए. यदि वर और वधु मांगलिक होते है तो दोनों के मंगल दोष एक दूसरे से के योग से समाप्त हो जाते है. मूल रूप से मंगल की प्रकृति के अनुसार ऐसा ग्रह योग हानिकारक प्रभाव दिखाता है, लेकिन वैदिक पूजा-प्रक्रिया के द्वारा इसकी भीषणता को नियंत्रित कर सकते हैं. मंगल ग्रह की पूजा के द्वारा मंगल देव को प्रसन्न किया जाता है, तथा मंगल द्वारा जनित विनाशकारी प्रभावों को शांत व नियंत्रित कर सकारात्मक प्रभावों में वृद्धि की जा सकती है. ऐसे व्यक्ति जिनकी कुंडली में मंगल भारी रहता है, वे अपने अनिष्ट ग्रहों की शांति के लिए मंगलनाथ मंदिर में पूजा-पाठ करवाने आते हैं, क्योंकि पुराणों में उज्जैन नगरी को मंगल की जननी कहा गया है. पूरे भारत से लोग यहां पर आकर मंगल देव की पूजा आराधना करते हैं, जिनकी कुंडली में मंगल भारी होता है वह मंगल शांति हेतु यहाँ भात पूजा करवाते हैं.

  • BIRTH PLACE OF LORD MARS This place is birth place of Mars and 'only temple' devoted to him. This temple is far from the main city , hence needs to take an auto for this. There are stalls on this place for you to buy for Pooja. I went during Aarti around 5 and then it was crowded. Normally, the place is not crowded and can be easily done in 15 minutes. A peace of calm and depends on stories of Lord Mars you have heard.

  • यह मंदिर मध्यप्रदेश की धार्मिक राजधानी उज्जैन में स्थित है। पुराणों के अनुसार उज्जैन नगरी को मंगल की जननी कहा जाता है। ऐसे व्यक्ति जिनकी कुंडली में मंगल भारी रहता है, वे अपने अनिष्ट ग्रहों की शांति के लिए यहाँ पूजा-पाठ करवाने आते हैं। यूँ तो देश में मंगल भगवान के कई मंदिर हैं, लेकिन उज्जैन इनका जन्मस्थान होने के कारण यहाँ की पूजा को खास महत्व दिया जाता है

  • MANGALNATH ACCORDING TO MATSYA-PURANA THIS IS THE BIRTH-PLACE OF MARS OR THE MANGALA GRAHA. FLOWING OF SHIPRA RIVER PRESENTS A VERY BEAUTIFUL VIEW INFRONT OF THE TEMPLE. DEVOTEES GATHER IN LARGE NUMBERS SPECIALLY ON TUESDAY. LOCATED ON A HILLOCK, THIS PLACE PRESENTS THE HIGHEST POINT IN THE AREA. IN ANCIENT TIMES THE PLACE WAS FAMOUS AS IT IS SAID TO HAVE PROVIDEDACLEAR VIEW OF MARS. UUIJAIN WAS AN IMPORTANT CENTRE FOR ASTRONOMICAL STUDIES. THIS PLACE, TRADITIONALLY KNOWN FOR ITS SUITABILITY FOR ASTRONOMICAL READINGS OF MARS, CONTINUES TO HOLD ITS RELIGIOUS IMPORTANCE **WORSHIP OF SHIVA IS OFFERED IN THIS TEMPLE.

  • The only place on earth as birthplace of lord mars and worshipped as shivling ₹100 of puja thali contains mala, yantra and flowers etc

Read all reviews

All Questions

Mangalnath mandir
    Simply click on Ask a Question to add question